32.1 C
New Delhi
Sunday, September 19, 2021

लुटेरे गजनी को खदेड़ने के हजार साल बाद मोदी सरकार पूरी करेगी राजा भोज की प्रतिज्ञा, पढ़ें पूरी कहानी

- Advertisement -spot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_img

नई दिल्ली। राजा भोज द्वारा लुटेरे महमूद गजनवी से सोमनाथ मंदिर का प्रतिशोध लेने के बाद विजय स्वरूप जिस शिव मंदिर का निर्माण कराया गया था, यह वही है। भोपाल से 32 किमी दूर भोजपुर स्थित इस मंदिर को इसी कारण उत्तर का सोमनाथ कहा जाता है। तब इसका शिखर और कुछ हिस्सा अपूर्ण रह गया था, जिसे अब करीब 1000 साल बाद केंद्र सरकार पूर्ण कराने जा रही है। राजा भोज द्वारा तैयार कराए गए मूल नक्शे की परिकल्पना के अनुरूप ही इसे बनाया जाएगा। वह नक्शा भी मंदिर के प्रांगण में पत्थरों के टुकड़ों पर खुदी हुई है।

इतिहासकारों का मानना है कि संभवत: राजा भोज के निधन के कारण तब निर्माण को रोक देना पड़ा होगा। मंदिर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की देखरेख में है, जो अब इसे भव्य रूप देने की तैयारी में जुट गया है। भोजपुर मंदिर के नाम से विख्यात यह शिवालय वास्तुकला का अनुपम उदाहरण है।

पुरातत्वविदों के अनुसार, लाल पत्थर से तराशा गया विशाल व भव्य शिवलिंग इसे विश्व के अन्य शिवालयों से आगे ला खड़ा करता है। शिवलिंग की ऊंचाई 21.5 फीट और परिधि 17.8 फीट है। यह शिवलिंग अन्य मंदिरों में सबसे ऊंचा और विशाल है। शिवलिंग को चूने के पाषाण खंडों से निर्मित वर्गाकार और विस्तृत फलक वाले त्रिस्तरीय ऊंचे चबूतरे पर स्थापित किया गया है। शिवलिंग तक पहुंचने के लिए पुजारी को सीढ़ी लगानी पड़ती है।

मंदिर के विशालकाय पत्थर इंटरलॉकिंग पद्धति से जुड़े हैं। इसका अधूरा प्रवेशद्वार लगभग 66 फीट ऊंचा है। इसे भी किसी हिंदू भवन के प्रवेशद्वारों में सबसे ऊंचा और बड़ा आंका जाता है। विशाल वर्गाकार प्लेटफार्म पर यह मंदिर चार ऊंचे स्तंभों के सहारे खड़ा है। मंदिर में उत्कीर्ण मूर्तियां दर्शनीय हैं। दीवारों पर विलक्षण चित्रकारी भी की गई है।

पुरावशेषों से ज्ञात होता है कि कई बार प्रयास किए गए होंगे किंतु मंदिर का शिखर पूर्ण नहीं हो सका। शिखर यदि पूरी तरह निर्मित होता तो यह निश्चित ही भवन से भारी होता, जिसका भार भवन सहन नहीं कर पाता। यही तकनीकी समस्या कारण बनी होगी। सभी पहलुओं का अध्ययन किया जा रहा है।

भोजपुर गांव रायसेन जिले में बेतवा नदी के किनारे बसा है। इसकी स्थापना धार के महान परमार राजा भोज (1000-1053 ईसवी) ने की थी। इतिहासकार ई. लेनपूल ने लिखा है, गुजरात में जब विदेशी लुटेरे महमूद गजनवी (971-1030 ई.) ने सोमनाथ मंदिर में तोड़-फोड़ की तो यह समाचार राजा भोज तक पहुंचने में कुछ सप्ताह लग गए।

तुर्की लेखक गरदिजी के अनुसार, भोज ने इस घटना से क्षुब्ध होकर 1026 ई. में गजनवी पर हमला बोल दिया। हमला इतना जबर्दस्त था कि गजनवी सिंध के रेगिस्तान में भाग खड़ा हुआ। किंतु उसके बेटे सालार मसूद को मौत के घाट उतार कर भोज ने सोमनाथ का बदला लिया। इसी विजय की स्मृति में मालवा में सोमनाथ की स्थापना की। मंदिर का निर्माण 1026 से 1053 ई. तक चला।

- Advertisement -spot_imgspot_img

Latest news

- Advertisement -spot_img

Related news

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here